You are here
Home > मावली > पद भरने का ये कैसा पैटर्नःजहां संख्या है वहां पद खाली और जहां नहीं है वहां अधिक लगा दिए

पद भरने का ये कैसा पैटर्नःजहां संख्या है वहां पद खाली और जहां नहीं है वहां अधिक लगा दिए

Spread the love

http://www.fatehnagarnews.com

फतहनगर। प्रदेश में खाली पदों को भरने की कवायद पिछले काफी समय से चल रही है लेकिन विभाग का पद भरने का पैटर्न समझ से परे हैं। विभागीय लापरवाही के चलते सरकारी स्कूलों का नामांकन बढ़ने की बजाय कम हो रहा है। इसकी एक बानगी ईंटाली के राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक विद्यालय में देखी जा सकती है जहां चालू सत्र में करीब 80 बालिकाओं ने प्रवेश लिया है। प्रवेश की प्रक्रिया चालू है लेकिन अध्यापिकाओं की कमी के कारण बालिकाएं अन्यत्र जा रही है। भाजयुमो मावली मण्डल उपाध्यक्ष मधुसूदन पारीक ने बताया कि यहां पर प्रधानाध्यापिका का पद 2 वर्ष से रिक्त पडा है। इस समय भी यहां आठ कक्षाओं पर महज दो शिक्षिकाएं हैं। हाल ही हुई कांउसलिंग मे षिक्षा विभाग की रिक्त पदो वाले विद्यालयों की सूची में बालिका स्कूल ईंटाली का नाम कहीं नहीं था जिससे पद खाली ही रहे। वर्तमान में कार्यरत दोनों शिक्षिकाएं लेवल-2 की है जबकि पहली से पांचवी तक के लिए लेवल प्रथम की शिक्षिकाएं होनी चाहिए। शिक्षिकाओं की कमी के कारण इस विद्यालय का नामांकन निरन्तर गिरता जा रहा है। पहली से पांचवी तक 52 छात्राएं है जिससे नियमानुसार प्रथम लेवल की दो शिक्षिकाएं होनी चाहिए। यहां के लोगों ने इसको लेकर शिक्षामंत्री को एक पत्र भेजा है तथ विभाग के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। दूसरी ओर इसी क्षेत्र के जोधाणा में स्थित मिडिल स्कूल में महज 31 का नामांकन है लेकिन शिक्षक 4 लगा रखे हैं। हाल ही काउंसलिंग में एक अध्यापक की पोस्टिंग और कर दी। चंगेड़ी पंचायत के डांग प्राथमिक विद्यालय की एक शिक्षिका का गत दिनों स्थानान्तरण हो जाने के बाद फिलहाल वहां भी दोनों पदों पर कोई नहीं है। ऐसे में भाण्डावास से एक शिक्षिका को व्यवस्था के तौर पर लगा कर काम चलाया जा रहा है। यहां तीस से भी अधिक नामांकन है तथा नियमानुसार दो शिक्षक होने चाहिए लेकिन एक भी नहीं है।

Leave a Reply

Top
Hit Counter
Hit Counter