You are here
Home > फतहनगर - सनवाड > अम्बेशमुनि का रजत स्मृति समारोह आयोजित, हजारों गुरूभक्त पहुंचे गुरू अम्बेश के दरबार में

अम्बेशमुनि का रजत स्मृति समारोह आयोजित, हजारों गुरूभक्त पहुंचे गुरू अम्बेश के दरबार में

Spread the love

http://www.fatehnagarnews.com

फतहनगर। मेवाड़ संघ शिरोमणी पूज्य प्रवर्तक गुरूदेव श्री अम्बालालजी म.सा. की 25वीं पुण्यतिथि पर गुरूवार को रजत समारोह का आयोजन किया गया। समारोह का आयोजन निर्माणाधीन अम्बेश सौभाग्य मदन सभागार में किया गया जहां पर समारोह अध्यक्ष पनवेल निवासी रणजीतसिंह काकरेचा थे जबकि ध्वजारोहणकर्ता भंवरलाल नाहर अहमदाबाद थे। स्वागताध्यक्ष सिंधु के चुन्नीलाल लोढ़ा थे। चित्तौड़गढ़ सांसद सी.पी.जोशी,सेशन कोर्ट के जज प्रकाशचन्द्र पगारिया,कपासन विधायक अर्जुनलाल जीनगर एवं पालिकाध्यक्ष ज्ञानचंद पाटोदी बतौर राजकीय अतिथि कार्यक्रम में मौजूद थे। समारोह के मुख्य अतिथि जैन कॉन्फेंस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पारस मोदी,प्रान्तीय अध्यक्ष लक्ष्मीलाल बड़ाला आदि थे। अतिथि स्वागत पावनधाम संस्थान के अध्यक्ष मनोहरलाल लोढ़ा,प्रमुख प्रकाशचन्द्र सिंघवी,महासचिव दिनेश सिंघवी,कोषाध्यक्ष बाबुलाल उनिया,मंत्री बलवन्तसिंह हिंगड़,निर्माण मंत्री नीतिन सेठिया आदि द्वारा किया गया। समारोह का शुभारंभ कोमलमुनि के मंगलाचरण से हुआ। इस मौके पर बड़ी तादाद में गुरू भक्तों ने सामयिक भी की। संचालन ओम समदर्शी ने किया।

10fats1
धर्म-ध्यान कर गुरू को अर्पित करे सच्ची श्रद्धांजलिः सौभाग्यमुनि
रजत समारोह के दौरान व्याख्यान फरमाते हुए श्रमण संघीय महामंत्री पूज्य गुरूदेव श्री सौभाग्यमुनि कुमुद ने कहा कि गुरू गुणानुवाद के साथ ही हम धर्म-ध्यान कर अपनी काया को साफ करें वही गुरू के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होने फरमाया कि भौतिक सुविधाओं का महत्व नहीं है। यहां धर्म-ध्यान का ज्यादा महत्व है। धर्म-ध्यान की प्रेरणा से जिन लोगों ने सेवा का लाभ लिया है उन्हें पुण्य जरूर मिलेगा। पदयात्राओं का व्यापक स्वरूप होने पर मुनिश्री ने हर्ष व्यक्त किया लेकिन साथ ही नसीहत भी दी कि पदयात्राएं सादगी से युक्त होनी चाहिए। इस पर धर्मसभा में मौजूद हजारों की तादाद में श्रावक-श्राविकाओं ने हाथ खड़े कर हर्ष ध्वनि की। इसके अलावा मुनिश्री ने शादी-समारोह में भी 21 आइटम रखे जाने की बात कही। मोबाइल में वॉट्सएप के जरिए होने वाले दुष्प्रचार पर अंकुश लगाने एवं बच्चों को इससे दूर रखे जाने का संदेश दिया। युवाचार्य महेन्द्र ऋषि,आभाश्रीजी समेत अन्य संत साध्वियों ने भी व्याख्यान फरमाया। कार्यक्रम के दौरान जिन गुरू भक्तों ने सेवा का लाभ लिया उन्हें पावनधाम संस्थान द्वारा सम्मानित किया गया। नन्हें पदयात्रियों का भी स्वागत किया गया। मेवाड़ संघ मुम्बई के अध्यक्ष किशनलाल परमार को सौभाग्यमुनि ने इस अवसर पर श्रावक रत्न की उपाधि प्रदान की जिसका धर्मसभा में मौजूद लोगों ने हर्ष ध्वनि के साथ स्वागत किया।

10fats4
पावनधाम के साधना सदन के नजदीक हाल ही बने अम्बेश स्वाध्याय भवन का लोकार्पण गोधरा के महेन्द्र कुमार कच्छारा एवं कुंवारिया के शंकरलाल चण्डालिया परिवार द्वारा किया गया। कार्यक्रम के दौरान रक्तदान भी चला जिसमें युवाओं ने उत्साहपूर्वक रक्तदान किया।
रजत स्मृति वर्ष पर इस बार स्वामी वात्सल्य का लाभ महेन्द्र कच्छारा एवं परिवार द्वारा लिया गया। स्वामी वात्सल्य में पावनधाम पर आए श्रद्धालुओं के अलावा फतहनगर-सनवाड़ के सर्व समाज के लोगों ने लाभ लिया। हजारों की तादाद में आए लोगों के लिए भोजन की व्यवस्थाएं पावनधाम उपाध्यक्ष नेमीचंद धाकड़ के नेतृत्व में गुरू भक्तों ने संभाली। दोपहर बाद तक भोजन चलता रहा तथा लोग प्रसाद पाते रहे।

10fats3

Leave a Reply

Top
Hit Counter
Hit Counter